MC University

  About University
icon About University
icon From VC's Desk
  Governing Bodies
icon Management Council
   
 

बनाएं पाठकों की पंसद का अखबार: प्रमोद भारद्वाज

 

भोपाल, 15 दिसम्बर, 2017: माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्‍वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियों ने दैनिक समाचार पत्र हरिभूमि कार्यालय का भ्रमण किया। विद्यार्थियों ने समाचार पत्र की तकनीकी और संपादकीय टीम की कार्य प्रणाली के बीच समाचार कव्हरेज की जवाबदेही, डेड लाईन का दबाव किस प्रकार हेंडिल किया जाता है यह हरिभूमि, भोपाल दफ्तर के समाचार संपादक, सहायक संपादक और संवाददाताओं से जानकारी हासिल कर जाना।

इस अवसर पर समाचार पत्र हरिभूमि के स्थानीय संपादक श्री प्रमोद भारद्वाज ने सारगर्भित उद्बोधन देते हुए पत्रकारिता क्षेत्र की चुनौतियों से अवगत कराया। उन्होंने विद्यार्थियों को महत्वपूर्ण सुझाव देते हुए कहा कि जिज्ञासा, प्रतिप्रश्‍न, शोध और आम आदमी के जीवन से जुड़े दुख-दर्द की समझ एक पत्रकार को होना बहुत जरूरी है। शहर तक केंद्रित पत्रकारिता को उन्होंने पत्रकारिता का संकट बताया। उन्होंने कहा कि असली पत्रकारिता भारत के गांवों से होकर गुजरती है। उन्होंने कहा, एक समय था जब खबर आंदोलन हुआ करती थी परंतु आज कोई भी मीडिया वैसा प्रतिनिधित्व नहीं कर रहा। श्री भारद्वाज ने कहा कि सोशल मीडिया लोगों को भ्रमित कर रहा है। श्री भरद्वाज ने जोर देते हुए कहा कि निरंतर मेहनत, संपादन और जिम्मेदारी पत्रकारिता की परिपक्वता की निशानी है। उन्होंने कहा कि हमें बाजार का अखबार नहीं बल्कि पाठकों की पंसद का अखबार बनाना है।

इसी कड़ी में जुलाई सत्र से आरंभ पत्रकारिता विभाग में व्याख्यान माला के अंतर्गत समय-समय पर विषिष्ट व्यक्तियों के व्याख्यान विद्यार्थियों के ज्ञान वर्धन के लिए आयोजित किए गए। इसमें वरिष्ठ पत्रकार श्री रमेश शर्मा ने विशेषीकृत रिपोर्टिंग के साथ नए समाचार पत्रों को निकालने की चुनौती विषय पर अपना उद्बोधन दिया। पॉलिटिकल रिपोर्टिंग पर वरिष्ठ पत्रकार श्री राघवेन्द्र सिंह ने विद्यार्थियों से संवाद किया। व्याख्यान माला में श्री विजय मनोहर तिवारी ने अपनी पत्रकारिता के संस्मरण सुनाते हुए विस्थापन की त्रासदी और उससे जुड़ी रिपोर्टिंग को विस्तार से बताया। विषेष षनिवारीय संगोष्ठी में भारत-पाकिस्तान इतिहास के आइने में विषय पर श्री संतोष कुमार सिंह ने व्याख्यान दिया।