MC University

  About University
icon About University
icon From VC's Desk
  Governing Bodies
icon Management Council
   
 

भविष्य भारत के युवाओं का है: प्रो कुठियाला

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के
नोएडा परिसर के सत्रारंभ कार्यक्रम का दूसरा दिन

नोएडा, 10 अगस्त, 2017: दुनिया में सबसे बड़ी युवा शक्ति भारत के पास है। युवा खुद को रचनात्मक संकल्प के साथ आगे बढ़ें तो भविष्य भारत का है। भारत में वह मेधा थी और है जो उसको दुनिया की तमाम सभ्यताओं से अलग करती है। ये विचार माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति के हैं। वे दो दिवसीय सत्रारंभ कार्यक्रम के दौरान विश्वविद्यालय के नोएडा परिसर में विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। प्रो कुठियाला ने युवाओं को अपनी रचनात्मक मेधा को पहचानने और सही दिशा में सक्रिय होने का आह़वान किया। उन्होंने कहा कि भारत के पास एक समय बेहतर शिक्षा, संवेदना, समृद्धि, आध्यात्म रहा है हमें उस ऊंचाई को फिर से हासिल करना होगा। सवाल यह है कि क्या हम इसके लिए तैयार हैं? कुलपति ने युवाओं को आगाह किया कि यह सब महज नारे से नहीं बल्कि शुभ संकल्प, सकारात्मकता और कठिन श्रम से संभव होगा।

इसके पूर्व शुभारंभ सत्र में रिपोर्टिंग को समाज से जोड़ते हुए राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के अध्यक्ष श्री बलदेवभाई शर्मा ने कहा कि गंभीर चुनौतियों को पार करके ही पत्रकारिता के क्षेत्र में जगह बनाई जा सकती है। पुराना दौर कागज और कलम चलाकर पत्रकार बनने का था, आज यह दौर लैपटॉप, कैमरे तथा मोबाइल पर आ चुका है। श्री शर्मा ने कहा कि सकारात्मक मानस के बगैर अर्जुन जैसा धर्नुधारी भी कांपने लगता है। लेकिन ज्ञान, विवेक तथा आत्मावलोकन से सकारात्मक ऊर्जा का संचरण कर बेहतर पत्रकारिता की जा सकती है। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष संजय द्विवेदी ने कहा कि सूचना माध्यमों की बहुलता में भटकाव संभव है। ऐसे में नयी पीढ़ी को तमाम आधुनिकताओं के साथ स्वतंत्र चेतना का विकसित होना बहुत जरूरी है।

पंजाब केसरी समूह के कार्यकारी समूह संपादक श्री अकु श्रीवास्तव ने भविष्य के समाचार पत्र के स्वरूप, तकनीक और अंतर्वस्तु में होनेवाले बदलावों की तरफ ध्यान दिलाया। वरिष्ठ पत्रकार व नवभारत टाइम्स के पूर्व संपादक रामकृपाल सिंह का कहना था कि समाचार पत्रों का आने वाला भविष्य हमारे समय से बेहतर होगा तथा इसमें कैरियर की संभावनाएं निरंतर बनी रहेंगी, क्योंकि इंसान की भूख में सूचना की भूख भी शामिल है। आने वाला दौर (आइटीआर) इनफॉरमेशन ट्रांसफर रेट का रहेगा। जो माध्यम तेज रहेगा उसी माध्यम को ज्यादा पढ़ा-सुना तथा देखा जाएगा।

हाईव कम्युनिकेशन के सीईओ तथा वरिष्ठ मीडिया विश्लेषक सुशील पंडित ने विज्ञापन की दुनिया से परिचित कराते हुए उसमें संभावनाओं और चुनौतियों पर प्रकाश डाला। श्री पंडित ने कहा कि आज प्रोफेसनल कम्युनिकेशन के दौर में एडवरटाइजिंग तथा कंज्यूमर के बीच की कड़ी तथा इसके तत्वों को समझकर ही इस प्रोफेशन में आगे बढ़ा जा सकता है।  शोध में कैरियर विषय पर बोलते हुए काउंसिल फॉर रिसर्च एंड सोशल डवलपमेंट के पूर्व डायरेक्टर प्रो. बी.एस. नागी ने कहा कि किसी तथ्य की विवेचना उसके सांख्यिकीय समझ से समझी जा सकती है। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के सभी प्राध्यापक, विद्यार्थी तथा कर्मचारी मौजूद रहे।