MC University

  About University
icon About University
icon From VC's Desk
  Governing Bodies
icon Management Council
   
 

शोध के कारण ही विकासवादी युग आया: श्री शर्मा

एमसीयू के संचार शोध विभाग में तीन-दिवसीय रिसर्च सिम्पोजियम-2017 का समापन

भोपाल, 27 सितम्बर, 2017: शोध का  हमारे जीवन में व्यापक प्रभाव होता है। पूर्व में हुए शोध के कारण ही समाज में परिवर्तन होता है। वास्तव में शोध के कारण ही विकासवादी युग आया है। यह बात माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय की सम्बद्ध अध्ययन संस्थान के निदेशक श्री दीपक शर्मा ने संचार शोध विभाग द्वारा आयोजित तीन-दिवसीय रिसर्च सिम्पोजियम-2017 के समापन सत्र में विद्यार्थियों और शोधार्थियों को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि शोध के लिए 'एटीट्युट' होना आवश्यक है। मात्र प्रक्रिया जानने से ही रिसर्च नहीं होता। शोधार्थी समाज में उत्प्रेरक का काम करता है। वह समाज में परिवर्तन लाता है और दूसरों को भी प्रोत्साहित करता है। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा कि एक शोधार्थी के मन में हमेशा जिज्ञासा होना चाहिए। बच्चे प्राकृतिक रूप से शोधार्थी होते है, वे बार-बार सवाल पूछते है। लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते है, हमारी जिज्ञासा का स्तर कम होता जाता है। समापन सत्र का संचालन और आभार प्रदर्शन संचार शोध विभाग की अध्यक्ष एवम रिसर्च सिम्पोजियम की संयोजक डॉ. मोनिका वर्मा ने किया। अंत में विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र भी वितरित किये गए।

तकनीक सत्रों में हुए विशेष व्याख्यान

इसके पूर्व सत्र में एनआईटीटीटीआर, भोपाल के प्रो. प्रभाकर सिंह ने मीडिया में प्रायोगिक रिसर्च पर व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया कि प्रायोगिक शोध में निदर्शन, ट्रीटमेंट और रिसर्च डिजाईन का बहुत ज्यादा महत्व है। मीडिया में प्रायोगिक शोध बहुत कम होती है। उन्होंने प्रायोगिक शोध के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में विस्तृत रूप से बताया। द्वितीय सत्र में सामाजिक विकास परिषद् के पूर्व शोध निर्देशक डॉ.  बी. एस. नागी ने शोध में सांख्यिकीय उपकरणों के प्रयोग और उनसे प्राप्त परिणाम का विश्लेषण में उपयोग पर व्याख्यान दिया। रिसर्च सिम्पोजियम में संचार शोध विभाग, विज्ञापन एवम जनसंपर्क और पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियों ने भाग लिया। तीन दिनों के दौरान जनजातीय शोध संस्कृति, सरकार की योजनाओं के निर्माण और मूल्यांकन में शोध का उपयोग और महत्व, और अन्य विषयों पर विद्यार्थियों ने जानकारी प्राप्त की।